Wednesday, August 24, 2011

भ्रष्टाचारी भारत में -रह लो ?? नहीं -कहेंगे-भारत छोडो …


भ्रष्टाचारी भारत में -रह लो ??
नहीं -कहेंगे-भारत छोडो …
गोरे होते तो कह देते
“काले” हो तुम-भाई -मेरे
शर्म हमें -ये “नारा’ देते
0818-anna-hazare-india_full_600
———————-
ये आन्दोलन बहुत बड़ा है
खून –पसीना- सभी लगा है !
बहने -भाई -बाप तुम्हारा
बेटा देखो साथ खड़ा है !!
—————————
हम चाहें तो गरजें बरसें
आंधी तूफाँ कहर दिखाएँ
चपला सी गिर राख बनायें
इतने महल जो भूखे रख के
तुमने बासठ साल बनाये
मिनट में सारे ढहा दिखाएँ
शांत सिन्धु लहराते आयें
और सुनामी हम बन जाएँ !!
—————————-
कदम -ताल में शक्ति हमारे
कांपें भू -वो जोश दिखाएँ
पांच पञ्च के हम सब प्यारे
न्याय अहिंसा के मतवारे
लाठी गोली की आदत तो
वीर शहीदों ने सिखलाये
—————————
भूखे अनशन पर हम बैठे
लूटे जो -कुछ उसे बचाएं ??
गाँधी -अन्ना भूखे बैठे
भ्रष्टाचारी किस-मिस खाएं
जो ईमान की बात भी कर दे
छलनी गोली से हो जाए
——————————–
हे रक्षक ना भक्षक बन जा
गेहूं के संग घुन पिस जाएँ
क्या चाहे तू यज्ञं कराएं
तक्षक -नाग-सांप जल जाएँ
————————————
हमसे भाई “भेद ” रखो ना
घर में रह के “सेंध” करो ना
जिस थाली में खाना खाते
काहे छेद उसी को डाले
—————————
कल बीबी बेलन ले दौड़े
बेटा -गला दबाने दौड़े
दर्पण देख के तुझको रोये
तू क्या चाहे ?? ऐसा होए ??
————————————–
शुक्ल भ्रमर ५
२५.०८.२०११ जल पी बी




दे ऐसा आशीष मुझे माँ आँखों का तारा बन जाऊं

8 comments:

प्रतीक माहेश्वरी said...

पर राह अभी कठिन है..डिगे तो गए!

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

प्रिय प्रतीक माहेश्वरी जी अभिवादन और अभिनन्दन राह तो कठिन बनायीं जा रही है अग्नि परीक्षा है अन्ना की जान पर बन आयी है आइये सब मिल कुछ करें ....और आशावान रहें
भ्रमर ५

रविकर said...

श्रेष्ठ रचनाओं में से एक ||
बधाई ||

veerubhai said...

अमर -अन्ना भाई ,भ्रमर अन्ना भाई !आपने हम सबकी बात कह दी है ,जन जन की साध कह दी है .....प्रासंगिक मौजू हमारे वक्त का यथार्थ है यह पोस्ट ,खुशखबरी ही नहीं बड़ी खबर है "चीफ ऑफ़ आर्मी स्टाफ "जन -अन्ना -लोकपाल बिल की वकालत कर रहें हैं .जय सेना ,जय भारत ,जय जय अन्ना ...
बृहस्पतिवार, २५ अगस्त २०११
बहुत देर कर दी हुज़ूर आते आते ......
http://veerubhai1947.blogspot.com/
Friday, August 26, 2011
"बद" अच्छा "बदनाम" बुरा...
"बद अच्छा ,बदनाम ,बुरा
बिन पैसे ,इंसान बुरा ,
काम सभी का ,एक ही है ,पर मनमोहन का नाम बुरा .------
http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

प्रिय रविकर जी इस रचना को आप ने सराहा भरपूर समर्थन दिया हम ऐसी ही आशा अपने हर जन से करते है आइये सब मिल हाथ बढ़ाएं भ्रष्टाचारी को उनका मुह दिखाएँ
आभार भ्रमर ५

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

आदरणीय वीरू भाई हम चाहते हैं की सब वीरू भाई बनें सब अन्ना बने सब चीफ आफ आर्मी स्टाफ को देखें सुनें अनुकरण करें अब हमें जय सेना जय जवान मिल गए हैं जय किसान भी और जोर लगाएं और अपना भविष्य बचाएं
आभार आप का
भ्रमर ५

Ankit pandey said...

बहुत सुन्दर और भावपूर्ण कविता! दिल को छू गई हर एक पंक्तियाँ!शुभकामनाएं.

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

प्रिय अंकित पाण्डेय जी रचना की हर पंक्ति आप के मन को भायी कुछ भाव उजागर कर सकी भ्रष्टाचारियों की सुन हर्ष हुआ -आभार आप का समर्थन हेतु
भ्रमर ५