Friday, May 18, 2012

ईश्वर-१ (कड़ी -३)


ईश्वर-१  (कड़ी -३)

कठपुतली से बंधी डोर हम नाच रहे हैं
नटिनी सा रंग -मंच जग सारा
अनचाहे-चाहे हम क्या क्यों करते
उड़ता कोई लगा के गोता खोज रहा जग सारा
---------------------------------------------------------
भ्रम -विभ्रम से जो देखे जग
वही मान कर सदा व्याख्या करता
कर प्रत्यक्षीकरण  समझता
गोल-गोल मंडराता रहता
---------------------------------
मृग मरीचिका नाग-मणि कस्तूरी क्यों है
जन्म -मृत्यु होनी -अनहोनी उलझा  जाता
------------------------------------------------
तेरे कर्षण-आकर्षण में कितनी सृष्टि लटकी
कितने जीवन जीव -आत्मा परमात्मा में बसते
कुछ पदार्थ कण गुण -ढंग खोजे फूले नहीं समाते
कर प्रयोग जादूगर जैसे महिमा अपनी गाते
-----------------------------------------------------
तेरे एक ही पल में ईश्वर कितनी दुनिया रचें मिटें
जैसे मानव जीव देखता कीट बहुत जनते-मरते
कितने उल्का पिंड टूटते ग्रह नक्षत्र अंदाज नहीं 
बरमूडा ट्रेन्गिल है देखो ब्लैक होल की थाह नहीं
-------------------------------------------------------
सारा दृश्य -अदृश्य है तेरा हम सब तेरे अंश प्रभो
तीन त्रिलोक तीन  पग  नापे शेषनाग बन  थामे
मत्स्य कूर्म कच्छप ना जाने कितने रूप दिखाते
हिरणाकश्यप - राम - कृष्ण कब महा-पुरुष बन आते !
-------------------------------------------------------------
जो तेरी लीला को खोजे मन -मष्तिष्क चलाये
भव-बंधन से मुक्त हुए हंसता हरियाता जाए
भौतिक सुख से सूक्ष्म जगत में ध्यान योग से आये
बड़ा अलौकिक ज्योति देख वो दुनिया सब बिसराए
-----------------------------------------------------------
कुछ अहम भरे मद-मत्त हुए लोगों से पाँव धुलाते
हे ! ‘ईश्वर कण-क्षण तू व्यापित तुझको जान न पाते
"एक" हैं सब बस "एक" अंश हैं क्या ऊंचा क्या नीचा
कर सम्मान एक दूजे का नेह से बस सब सींचे !
----------------------------------------------------------------
सुरेन्द्र कुमार शुक्ल "भ्रमर ५ "
कुल्लू यच पी , 28.04.2012
6.0 -7.0 पूर्वाह्न




दे ऐसा आशीष मुझे माँ आँखों का तारा बन जाऊं

6 comments:

dheerendra said...

बहुत ही सुंदर रचना,..इस कड़ी को क्रमशः जारी रखे

MY RECENT POST,,,,काव्यान्जलि ...: बेटी,,,,,
MY RECENT POST,,,,फुहार....: बदनसीबी,.....

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

प्रिय धीरेन्द्र जी आभार प्रोत्साहन तथा सुझाव हेतु ..भ्रमर ५

Maheshwari kaneri said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति.....आभार...

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

आदरणीया महेश्वरी जी ईश महिमा आप को भायी सुन हर्ष हुआ आभार
भ्रमर ५

संजय भास्कर said...

बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति...!!!!!

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

संजय भाई जय श्री राधे ..प्रभु की महिमा में रची ये रचना आप को अच्छी लगी सुन ख़ुशी हुयी --आभार -भ्रमर ५