Saturday, August 13, 2011

पढ़िए अन्ना हजारे द्वारा प्रधानमंत्री को लिखा पत्र


पढ़िए अन्ना हजारे द्वारा प्रधानमंत्री को लिखा पत्र
http://akhtarkhanakela.blogspot.com/2011/08/blog-post_4944.html

प्रिय अख्तर खान अकेला भाई आप के द्वारा उद्धृत  ये  अन्ना हजारे जी का प्रधानमंत्री को लिखा गया पत्र -एक सराहनीय कार्य है -इसे हमारे सभी नागरिक को पढना समझना चाहिए और अपने मन मस्तिष्क को उसी अनुरूप तुरंत ढाल कुछ कार्य करना चाहिए -
बहुत सुन्दर बधाई हो आप को -
हम ये पत्र और जगह भी उद्धृत कर रहे हैं और हमारे सभी देश प्रेमियों से अनुरोध भी की कुछ देश हित में कार्य करे अविलम्ब -
शुक्ल भ्रमर ५ 
दे ऐसा आशीष मुझे माँ आँखों का तारा बन जाऊं

9 comments:

S.N SHUKLA said...

बहुत सार्थक प्रस्तुति .
भारतीय स्वाधीनता दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं .

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

धन्यवाद शुक्ल जी -ये अन्ना द्वारा प्रधानमंत्री को लिखा पत्र अख्तर भाई ने अपने ब्लॉग पर लगाया था जिसका प्रसार करना जरुरी लगा -आप सब को भी स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएं
धन्यवाद आप का
भ्रमर५

दिगम्बर नासवा said...

आभार इस पत्र तक पहुंचाने का ...

veerubhai said...

http://veerubhai1947.blogspot.com/
HypnoBirthing: Relax while giving birth?
HypnoBirthing: Relax while giving birth?

veerubhai said...

भ्रमर भाई ,हमने वह एहम चिठ्ठी बांच ली है उसे कबीरा खडा बाज़ार पर भी लगा रहें हैं .आपका शुक्रिया .कृपया यहाँ भी अपनी दस्तक दें .आभार .
http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
व्हाई स्मोकिंग इज स्पेशियली बेड इफ यु हेव डायबिटीज़ ?

veerubhai said...

प्रेषक :वीरेंद्र शर्मा ,३५२४/१५ डी ,चण्डीगढ़
सरकारी चिंता .
इन दिनों चीन की सेना (ना )पाकी सेना के साथ मिलकर राजस्थान राज्य के जैसलमेर जिले से सिर्फ २५-३० मील की दूरी पर सैन्य अभ्यास कर रही है ।क्योंकि हमें मार खाने की बाहरी ताकतों से आदत पड़ चुकी है और चीन तो हमारी काफी ज़मीन भी दबाये हुए है इसीलिए सरकार इस सब से जरा भी चिंतित नहीं है .सोफ्ट स्टेट होने को हम बारहा सिद्ध करते रहतें हैं .कोई भी आतंकी यहाँ पटाखे फोड़ के चला जाता है (सरकारी भाषा में बम विस्फोट को पटाखा ही कहतें हैं ) इसीलिए हमें इस सबकी भी आदत हो गई है .सरकार की चिंता "अन्ना है ",बकौल अन्ना के वह एक मंदिर के दस बाई दस फुटे कमरे में रहतें हैं .सरकार ने पैमाइश करवाई है .पता चला है लम्बाई भी सवा दस फुट है चौड़ाई भी .सरकार कहती है अन्ना झूठ बोल रहें हैं .और कोई आपके जैसा पैर छूकर एक कुर्ता दे जाता है तो सरकार तुनक कर कहती है पांच फुट दो इंच का आदमी इतना लंबा कुर्ता पहनता है .यह राष्ट्रीय संपत्ति का अपमान है .इसकी जांच होनी चाहिए .देशी आदमी होकर सरकार को धमकी देता है .विदेशी होता तो और बात थी .हम इसके घाव भी खाएं .अपनी औकात भूल गया ये आदमी .सेना का ट्रक चलाता था .गोली लगी तो जीवन से मोह भंग हुआ .कुंवारा रह गया इसमें सरकार की क्या गलती है .साला आगे नाथ न पीछे पगा .पेंशन पर ज़िंदा आदमी सरकार से पंगा लेने चला .

पत्रकार-अख्तर खान "अकेला" said...

surendr bhaai shukriyaa bahut bahut shukriyaa .akhtar khan akela kota rajsthan

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

दिगंबर नासवा जी ये जरुरी था की प्रधानमंत्री जी को लिखा गया ये पत्र अधिक लोगों तक पहुंचें ....आभार आप का समर्थन हेतु
भ्रमर ५

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

वीरुभायी जी ये जरुरी था की प्रधानमंत्री जी को लिखा गया ये अन्ना का पत्र अधिक लोगों तक पहुंचें ....आप ने इसे अपने ब्लॉग पर लगा कर सराहनीय कार्य किया है -सरकार की मंशा और जांच अन्ना जी के बारे में उसका पागलपन दर्शाता है और कुछ नहीं कायरता है
आभार आप का समर्थन हेतु
भ्रमर ५