Saturday, November 15, 2014

बेवफा

बेवफा ( खेल समझकर दिल क्यों  तोड़ जाते हैं वे ) 
घर फूटा मन टूटा बिच्छिन्न हुए अरमान 
मैंने पाया विश्वास गया
ठेस लगी टूटा अभिमान 
(photo with thanks from google/net)

एकाकी जीवन रोता दिल
नासूर बनी खिलती कलियाँ 
जल जाएँ न सुन विरह गीत 
मिट जाएँ न अभिशप्तित परियां 
लूट मरोड़ मुकर क्यों जाते
ऐ सनम जो तुझसे दिल न लगाते
बाँध ले घुंघरू तज गेह नेह
सुख भर ले नित दिल टूट देख
ना धूमिल कर छवि नारी की
दिल दे न चढ़े बलि बेचारी
प्यार बना आधार बचाए घर कितने
सोने पर सोना छोड़
ले देख जरा तुझसे कितने

सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर ५
राय बरेली - प्रतापगढ़

७.९.१९९३ 



दे ऐसा आशीष मुझे माँ आँखों का तारा बन जाऊं

12 comments:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (16-11-2014) को "रुकिए प्लीज ! खबर आपकी ..." {चर्चा - 1799) पर भी होगी।
--
चर्चा मंच के सभी पाठकों को
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

डॉ. मोनिका शर्मा said...

बेहतरीन रचना

हिमकर श्याम said...

बहुत सुंदर अभिव्यक्ति...

Onkar said...

सुंदर रचना

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

आदरणीय शास्त्री जी रचना आप के मन को छू सकी और आप ने इसे चर्चा मंच पर स्थान दिया ख़ुशी हुयी आभार
भ्रमर ५

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

आदरणीया डॉ मोनिका जी
रचना पर आप का समर्थन और प्रोत्साहन मिला ख़ुशी हुयी
आभार
भ्रमर ५

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

प्रिय हिमकर जी
रचना पर आप का स्नेह और प्रोत्साहन मिला ख़ुशी हुयी
आभार
भ्रमर ५

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

प्रिय ओंकार जी
स्वागत है आप का यहां
रचना पर आप का स्नेह और प्रोत्साहन मिला ख़ुशी हुयी
आभार
भ्रमर ५

Vinay Singh said...

मुझे आपका blog बहुत अच्छा लगा। मैं एक Social Worker हूं और Jkhealthworld.com के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य के बारे में जानकारियां देता हूं। मुझे लगता है कि आपको इस website को देखना चाहिए। यदि आपको यह website पसंद आये तो अपने blog पर इसे Link करें। क्योंकि यह जनकल्याण के लिए हैं।
Health World in Hindi

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

जी विनय जी हम जरूर देखेंगे और आप का स्वागत है यहां पधारने हेतु आभार
भ्रमर ५

हिमकर श्याम said...

सुख-शान्ति, समृद्धि, प्रसन्नता एवं आरोग्य की मंगलकामनाओं के साथ नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!!

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

प्रिय हिमकर जी आप तथा सभी मित्रों को नव वर्ष की ढेर सारी शुभ कामनाएं
भ्रमर ५