BHRAMAR KA DARD AUR DARPAN

Friday, June 18, 2021

दो फाड़ हो चुके

दो फाड़ हो चुके
....................
चूहों की चौपाल में
घमासान जारी है
दो फाड़ हो चुके
फिर भी ये टुकड़ा
अभी बहुत भारी है....
तीन चूहे
एक रोटी
सामर्थ्य नहीं
नोच दो फाड़ दो
उछल कूद जारी है...
उधेड़बुन, कशमकश
एक कोने से दूजे कोने
दौड़ भाग केंद्र तक जारी है...
मन नहीं है बांटने का
अनमना मन
लिहाज शर्म हया
अब भी सब पे भारी है....
खिसियाहट
दांत गड़ाने
दांत निपोरने 
नाम बदलने से 
अच्छा है बांट दो
सुगबुगाहट जारी है....
तीन टुकड़े भले होंगे
दर्द भूल जाएगा
हलाहल पच जाएगा
तीनों का पेट तो भर जाएगा
बहस अभी जारी है...
.....….............
सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर 5
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश, भारत।



दे ऐसा आशीष मुझे माँ आँखों का तारा बन जाऊं

14 comments:

  1. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (20-06-2021) को 'भाव पाखी'(चर्चा अंक- 4101) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।

    अनिता सुधीर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आप का , रचना के मर्म को आप ने समझा और भाव पाखी में इसे आप ने स्थान दिया खुशी हुई।

      Delete
  2. उधेड़बुन और कश्मकश, वाह!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार और स्वागत है आप का आदरणीया जय श्री राधे।

      Delete
  3. बहुत ही सुंदर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार आप का मित्र रचना पर आप का समर्थन मिला खुशी हुई, राधे राधे

      Delete
  4. सुंदर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आप का आदरणीया रचना पर आप का समर्थन मिला खुशी हुई। राधे राधे।

      Delete
  5. गज़ब तंज !
    शानदार सृजन।
    अपनी रोटी सेंकने का खेल जारी है।
    यथार्थ भाव।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आप का मित्र रचना के मर्म को आप ने बखूबी समझा सराहा, रचना पर आप का समर्थन मिला खुशी हुई। राधे राधे।

      Delete
  6. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आप का आदरणीया रचना पर आप का समर्थन मिला खुशी हुई। राधे राधे।

      Delete
  7. वाह!गज़ब कहा।
    सादर

    ReplyDelete
  8. हार्दिक आभार आप का आदरणीया रचना पर आप का समर्थन मिला खुशी हुई। राधे राधे।

    ReplyDelete

दे ऐसा आशीष मुझे माँ आँखों का तारा बन जाऊं
अभिनन्दन आप का ,हिंदी बनाने का उपकरण ऊपर लगा हुआ है -आप की प्रतिक्रियाएं हमें ऊर्जा देती हैं -शुक्ल भ्रमर ५