Monday, February 17, 2014

‘लोरी’ गा के मुझे सुलाना


‘लोरी’ गा के मुझे सुलाना
-------------------------------




माँ बूढी पथरायी आँखें
जोह रही हैं बाट
लाल हमारे कब आयेंगे
धुंध पड़ी अब आँख
                            —————————-

जब उंगली पकड़ाये चलती
कही कभी थी बात
मै आज सहारा दे सिखलाती
जब बूढी तुम थामना हाथ
—————————-
सूरज मेरा पढ़ा लिखा था
संस्कृति अपनी था सीखा
मात पिता के थे सारे गुण
प्रेम, कर्म से भरा जोशीला
—————————-
घर में रोटी दाल सभी थी
मै ही थी पगलाई
जो विदेश खेती गिरवी रख
लाल को मै भिजवायी
—————————-
बहुत कमाया प्य्रार जताया
अभी और पढता हूँ माँ
कल जब पढ़ लिख पक्का हूँगा
तुझको ले आऊंगा माँ
———————————–
तब तो चिट्ठी आ जाती थी
हँस -रो के मै खा लेती थी
अब रो-रो ही खाती जीती
जितने दिन हैं सांसे चलती
———————————
‘बुरी नजर’या हुआ विदेशी
कौन कला पश्चिम की भायी
सौ गुण युक्त ये सोने चिड़िया
काहे उसको रास न आयी
———————————
बापू तेरे जर्जर हो गए
ठठरी पंजरी पड़ गये खाट
कुछ दिन चल फिर मै कर लूँगी
आँख अँधेरा कल क्या राम !
————————————–
रामचन्द्र का तो ‘चौदह’ था
तेरा कितना हे ! वनवास
क्रोध गुरेज नहीं है मन में
‘नजर’ भरूं ‘आ’ देखूँ आस
——————————–
दिल ये हहर-हहर कर टीसे
जब आते हैं उनके लाल
होली-दीवाली फागुन रंग
हम दो के सपनों की बात
————————————–
अपना देश भी किया तरक्की
घडी घडी अब होती बात
क्यों भूला सब माँ ममता रे !
भूले-विसरे कर ले बात
————————————-
मेरे दिल का दर्द प्रेम क्या
तेरे दिल को ना तड़पाता
‘खून’ मेरा क्या तेरे खून से
जुदा हुआ सब तोड़े नाता
———————————
मर गयी या संवेदना तेरी
तू ‘मशीन’ अब यूरोप का
प्रेम प्यार रिश्ते-नातों की
मातृ-भूमि ना मया-दया
——————————–
‘आ’ बेटा आ अन्त समय ही
मेरी उंगली थाम दिखाना
मुँह में गंगा जल थोड़ा सा
‘लोरी’ गा के मुझे सुलाना
——————————–
सुरेन्द्र कुमार शुक्ल ‘भ्रमर ५ ‘
करतारपुर , जालंधर
पंजाब
१५-०२ -२०१४
४-४. ३५ मध्याह्न



दे ऐसा आशीष मुझे माँ आँखों का तारा बन जाऊं

4 comments:

Neeraj Kumar said...

बहुत सुन्दर मार्मिक चित्र खिचा है आपने कविता के माध्यम से.. वाह

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

बहुत सुंदर प्रभावी अभिव्यक्ति...!बधाई

RECENT POST - आँसुओं की कीमत.

surendrshuklabhramar5 said...

नीरज भाई रचना में माँ का संतान के प्रति दर्द आप ने महसूस किया और प्रोत्साहन दिया आभार
भ्रमर ५

surendrshuklabhramar5 said...

धीरेन्द्र भाई बेटे के बुढ़ापे में भी सम्बल न देने के दर्द को आप ने महसूस किया प्रोत्साहन दिया आभार
भ्रमर ५