Monday, February 29, 2016

मेरे घर के बगल कौन है ?


मेरे घर के बगल कौन है ?
=================
मेरे घर के बगल कौन है ?
सन्त महाजन या आतंकी
मंथन आओ कर लें प्यारे
भूख है हम को कितनी धन की ,,,
======================
प्रेम क्रोध या घृणा ईर्ष्या
जांचो परखो क्या कुछ  देते
मारो-काटो ले लो बदला ??
जीवन क्षण भंगुर कर देते ..
========================
मानव योनि है दुष्कर पाए
संस्कार भारत भू आये
अच्छा -अच्छाई चुन लें
घर आँगन से नीव ये रख लें ..
==========================
मात-पिता सन्तति मन झांकें
सखा भाव रख मन को आंकें
कौन कोयला- हीरा परखें 
बनें जौहरी सदा तराशें  ...
=======================
अन्धकार जब बंद द्वार   हों
निरखें आओ भरें उजाला
नफरत घृणा अकेलेपन को
दूर करें रख भाई चारा ..
========================
बारूदों विस्फोट में जल-जल
क्यों मरते घुट जलते तिल-तिल
ज्वालाओं से जल सब हारा
खो अपना जग कौन है जीता ...
--------------------------------------------
सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर
कुल्लू हिमाचल भारत

२५-जनवरी -२०१६




दे ऐसा आशीष मुझे माँ आँखों का तारा बन जाऊं

4 comments:

डॉ. मोनिका शर्मा said...

सुंदर भाव

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

आदरणीया डॉ मोनिका जी हार्दिक आभार प्रोत्साहन हेतु
भ्रमर ५

राकेश कौशिक said...

प्रशंसनीय

Surendra shukla" Bhramar"5 said...


राकेश भाई रचना को आप ने सराहा मन खुश हुआ आभार भ्रमर ५