Wednesday, August 28, 2013

श्याम हमारे नान्हे कान्हा मनमोहन हैं भाई

हमारे सभी प्यारे दुलारे कान्हा गोपियों राधे माँ  को प्रभु कृष्ण के  जन्म पर ढेर सारी हार्दिक शुभ कामनाएं सब मंगल हो
आइये एक बार खुले दिल से जोर से बोलें 
प्रभु श्री कृष्ण की जय
हरे कृष्ण -हरे राम राम राम हरे हरे............
और रात के बारह बजे तक कान्हा के संग बाल गोपाल बन के  ध्यान और आराधना में डूब जाएँ


श्याम हमारे नान्हे कान्हा मनमोहन हैं भाई
------------------------------------------------





मोर पंख संग रत्न जड़े हैं
कारे घुंघराले हैं बाल
माथे तिलक चाँद सोहे है
सूरज सम चमके है भाल
-----------------------------------
सुन्दर भृकुटी मन-मोहक है
मोर पंख ज्यों घेरे नैना
तीन लोक दर्शन अँखियन में
अजब जादुई वशीकरण कान्हा के नैना
-----------------------------------------------
मुख-मण्डल यों आभा बिखरी
मन-मोहन खिंचते सब आयें
कोई दधि  ले माखन कोई
आतुर छू लें कैसे दर्शन पायें
--------------------------------------
कर्ण कपोल गाल पे कुण्डल
हहर -हहर जाए भक्तन  मन
लाल होंठ ज्यों बोल पड़ेंगे
खुले दिखे मुख जीव जगत सब
--------------------------------------
दमकत लपकत हार गले है
ज्यों दामिनि  छवि धरती -अम्बर
दर्द मोह माया सब भूले
प्रभु चरणों सब मिलता सम्बल
---------------------------------------


रंग -बिरंगे पट आच्छादित
मुरली  खोंसे हैं करधन
गाय, ग्वाल सखियाँ आह्लादित
पुलकि-पुलकि हैं  खिले सभी मन
-----------------------------------------------


श्याम हमारे नान्हे कान्हा मन-मोहन हैं भाई
मातु देवकी यसुदा माता आज धन्य हर माई
पूत जने ललना यों लायक घर घर बाजे थाली
गद-गद ढोल नगाड़े तासे, मथुरा वृन्दावन काशी
-----------------------------------------------------------
सुरेन्द्र कुमार शुक्ल 'भ्रमर'
५ .० ५ - ५ . ३ ५ मध्याह्न
कृष्ण जन्माष्टमी
प्रतापगढ़

कुल्लू हिमाचल



दे ऐसा आशीष मुझे माँ आँखों का तारा बन जाऊं

Tuesday, August 27, 2013

धरती भी काँप गयी



धरती भी काँप गयी
———————-
उड़ान भरती चिड़िया
जलती दुनिया
आंच लग ही गयी
———————
दाढ़ी बाल बढ़ाये
साधू कहलाये
चोरी पकड़ा ही गयी
————————-
इतना बड़ा मेला
पंछी अकेला
डाल भी टूट गयी
———————-
खंडहर भी चीख उठा
रक्त-बीज बाज बना
धरती भी काँप गयी
————————
कानून सोया था
सपने में रोया था
देवी जी भांप गयीं
———————–
जल्लाद जाग उठा
गीता को बांच रहा
सुई आज थम गयी
————————
‘एक’ माँ रोई थी
‘एक ‘ आज रोएगी
अपना ही खोएगी
————————

सुरेन्द्र कुमार शुक्ल ‘भ्रमर’५
१ २ . १ ५ पूर्वाह्न -1 २ . ३ ४ पूर्वाह्न
कुल्लू हिमाचल
२ ५ .० ८ – १ ३


दे ऐसा आशीष मुझे माँ आँखों का तारा बन जाऊं

Friday, August 23, 2013

कुंठित मन

कुंठित मन
===============

वंजर धरती को जोते हम
डाल उर्वरक हरा बनाये
सालों साल वृथा मिटटी जो
आज हँसे लहके लहराए !

कुंठित मन को कुंठा से भर
दुखी रहें क्यों हम अलसाये
कुंठित बीज हरी धरती में
कुंठित फसल भी ना ला पायें !

नाश करें खुद के संग धरती
वंजर  वृथा ह्रदय अकुलाये
जोश उर्जा क्षीण हो निशि दिन
ख़ुशी हंसी मन को खा जाए !

सहज सरल भी चुभें तीर सा
बिन बात बतंगड़ बनती जाए
घुन ज्यों अंतर करे खोखला
दिखता कुछ होता कुछ जाए !
हरे वृक्ष बन ठूंठ सडे कुछ
क्या जीवन , क्यों जीवन पाए ?
आओ तम से उबरें, भरें उजास -
ऊर्जा ! कूदें उछलें नाचें गायें !

हो आनंदित मन जब अपना
हो साकार तभी सब सपना
साधें लक्ष्य एकलव्य बन
अर्जुन भीष्म सा करें चित्त हम !

कुरुक्षेत्र हो या लंका रण
लिए सीख मन मन्त्र बढ़ें हम !

जित जाएँ उत राह बनायें
खुद तो चलें सभी बढ़ पायें
मिले हाथ से हाथ कदम तो
हो जय घोष विजयश्री आये !
----------------------------------

सुरेन्द्र कुमार शुक्ल ' भ्रमर ५'
प्रतापगढ़ उ प्र
(कुल्लू हिमाचल )
रचना -बरेली -मुरादाबाद मार्ग
३.-३. ४ ५ लौह पथ गामिनी में

२७ .० ७  -२ ० १ ३


Wednesday, August 14, 2013

कदम ताल से धरती कांपी- चले हिन्द के वीर

कदम ताल से धरती कांपी
चले हिन्द के वीर
लिए तिरंगा चोटी  चढ़ के
   गरजे ले शमशीर .............
-----------------------------------------------





भारत माँ ले रहीं सलामी
खुशियों का सागर उमड़ा
गले मिले सन्तति सब उनकी
ह्रदय कमल खिल-खिला पड़ा
कदम ताल से धरती कांपी ................
---------------------------------------------------

भारत माँ   हैं जान से प्यारी
संस्कृति अपनी बड़ी दुलारी
प्रेम शान्ति का पाठ पढ़े हम
अनगिन भाषा खिले हैं क्यारी
कदम ताल से धरती कांपी ................
-----------------------------------------------
नई नई नित खोज किये हम
विश्व गुरु बन दुनिया पाठ पढाये
वसुधा सागर गगन भेद के
सूक्ष्म ,तपस्या , योग सिखाये
कदम ताल से धरती कांपी ................
---------------------------------------------
हम  स्वतंत्र हैं प्रजातंत्र है
अपना सब का प्यारा राज
यहाँ अहिंसा भाईचारा नीति नियम है
 सभी मनाएं भाँति -भांति हिल-मिल त्यौहार
कदम ताल से धरती कांपी ................
----------------------------------------------------------
शेर हैं हम नरसिंह है हम वीर बड़े हैं
अर्जुन एकलव्य से हैं तो भीष्म अटल हैं
कायर दुश्मन वार कभी पीछे करते हैं
लिए तिरंगा छाती चढ़ते वीर हमारे अजर अमर हैं 
कदम ताल से धरती कांपी ................
------------------------------------------------------------------
प्रेम शान्ति का पाठ पढो हे दुनिया वालों
ना कर तांडव नाश सृष्टि का इसे बचा लो
ज्ञान दंभ पाखण्ड लूट बेचैनी से तुम घिरे पड़े हो
अन्तः झांको ,ज्वालामुखी धधकता 'स्व' को अभी बचा लो
दूध की नदिया सोने चिड़िया से गुर सीखो
कल्पवृक्ष भारत अगाध है प्रेम लुटाना लेना सीखो
कदम ताल से धरती कांपी ................
-----------------------------------------------------

सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर ५
प्रतापगढ़ भारत

कुल्लू -हिमाचल




दे ऐसा आशीष मुझे माँ आँखों का तारा बन जाऊं