Tuesday, November 22, 2011

किस घर बैठूं -किसका खाऊँ ?


किस घर बैठूं -किसका खाऊँ ?
हाथी मेरा खाता पीता
सुस्त चले – रहता बस सोता
अश्वमेध का सपना आया
घोडा चुन-चुन लाया
हाथी पर चढ़ कभी परिक्रमा
जब पूरी ना हो पायी
अश्वशक्ति – कुछ मंत्री- तंत्री
ले उधार तब-इच्छा पूरी कर पायी
सूरज ढलने को आया जब
अँधेरा ना हो जाए !
इसी लिए घर आग लगाया
उजाला -कुछ दिन रह जाए !!
उत्तर हाथी, उत्तर काशी
उत्तर शिला -उत्तर लोढ़ा
चार धाम- मन में आया
साँसें अटकी -जीवित क्यों हूँ
संसद में ला पास करा लूं
अपनी मूरति – कुछ गढ़वा के
चौराहे – मंदिर -में ला -दूँ
———————————
उसका ख्याल ये देख -देख कर
दल-दल मै फंसता जाऊं
अभी एक हैं भाई मेरे
जाऊं थोडा मिल आऊँ !
कल वे बँटे दीवारों होंगे
किस घर बैठूं – किसका खाऊँ ?
——————————-
बार्डर पर जाते ही भैया
एक -मुछंडे ने – रोका !
“बौने” छोटे- वहां बहुत हैं
तेरा “कद” अब भी ऊंचा !!
वीसा -पासपोर्ट -ले आओ
बंट जाए- तो फिर- घर जाओ
अब वो गाँव देश ना प्यारा
अब ये है पर-देश
मारा मारी -विधान -सभा में
नहीं मिला सन्देश ??
———————————–
दो रोटी खाकर मै जीता
कीचड़ वाला पानी भाई
सूखे कुएं का – अब तक पीता
ये कंकाल लिए अपना मै
कैसे पासपोर्ट बनवाऊँ ?
मगरमच्छ हैं -गिद्ध बहुत हैं
भय है- ना नोचा जाऊं !
———————————-
मन चाहे पत्थर की मूरति से
मिल मै – कुछ रो आऊँ
हाड मांस का पुतला अपना
आंसू – थोडा दिखलाऊँ
————————-
इस आंसू में शक्ति बहुत है
थोडा उनको समझाऊँ !
जो सजीव “पाथर” हैं मिल लूं
आँख मिला के -बतलाऊँ
जहर भरा है जिनके रग में
आंसू थोडा- मिला के आऊँ !
मुई खाल की सांस की गर्मी से
थोडा मै पिघलाऊँ !
मन में उनके जो इच्छा है
मार -उसे थोडा मै पाऊँ !
यहाँ पे राज करेंगी मौसी
वहां पे मामा कंस !
विद्वानों को तहखाने कर
मिलकर लेंगे डँस !!
—————————–
भ्रमर ५
यच पी



दे ऐसा आशीष मुझे माँ आँखों का तारा बन जाऊं

6 comments:

कुश्वंश said...

मर्मपूर्ण काव्य बधाई

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

आदरणीय कुश्वंश जी अभिवादन ..आप ने भाव और मर्म को समझा ..काश सब समझें ..
भ्रमर ५

"जाटदेवता" संदीप पवाँर said...

बेहतरीन लिखा है,

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

संदीप जी अभिवादन कहाँ कहाँ भ्रमर कर आये
आभार प्रोत्साहन हेतु
भ्रमर ५

dheerendra said...

भ्रमर जी,
बहुत सुंदर भाव पूर्ण प्रस्तुति,बेहतरीन
मेरे नये पोस्ट में पधारे स्वागत है आपका...

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

आदरणीय धीरेन्द्र जी अभिवादन और आभार प्रोत्साहन के लिए
भ्रमर ५