Friday, August 12, 2011

भैया का गहना है बहना !! -(रक्षा -बंधन और मिठाई)


बहना मेरी दूर पड़ा मै
दिल के  तू  है पास 
अभी बोल देगी तू "भैया"
सदा लगी है आस 
-------------------
मुन्नी -गुडिया प्यारी मेरी 
तू है मेरा खिलौना 
मै मुन्ना-पप्पू-बबलू हूँ 
बिन तेरे मेरा क्या होना !
---------------------------
तू ही मेरी सखी सहेली 
कितना खेल खिलाया 
कभी -कभी मेरी नाक पकड़ के 
तूने  बहुत चिढाया !
--------------------
थाली में तू अपना हिस्सा 
चोरी से था डाल खिलाया 
जान से प्यारी मेरी बहना 
भैया का गहना है बहना !!
----------------------------
जब एकाकी मै होता हूँ 
सजी थाल तेरी वो दिखती 
चन्दन जभी लगाती थी तू 
पूजा- मेरी आरती- करती !
रक्षा -बंधन और मिठाई 
दस-दस पकवान पकाती थी 
-----------------------------









बाँध दिया बंधन से तूने   
ये अटूट रक्षा जो करता 
मेरी बहना सदा निडर हो 
ख़ुशी रहे दिल हर पल कहता 
-------------------------------


जहाँ रहे तू जिस बगिया में 
हरी-भरी हो फूल खिले हों 
ऐसे ही ये प्यारा बंधन 
सब मन में हो -गले लगे हों 
-------------------------------
तू गंगा गोदावरी सीता 
तू पवित्र मेरी पावन गीता 
तेरी राखी आई पाया 
चूम इसे मै गले लगाया 
-----------------------------
कितने दृश्य उभर आये रे 
आँख बंद कर हूँ मै बैठा 
जैसे तू है  बांधे राखी 
मन -सपने-उड़ता मै "पाखी"
---------------------------------
तेरी रक्षा का प्रण बहना  
रग-रग  में राखी दौडाई 
और नहीं लिख पाऊँ बहना 
आँख छलक मेरी भर आई 
---------------------------------
सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर ५
१३.०८.११  ८.४५ पूर्वाह्न 
जल पी बी 



दे ऐसा आशीष मुझे माँ आँखों का तारा बन जाऊं

8 comments:

S.N SHUKLA said...

सुन्दर रचना , खूबसूरत भावाभिव्यक्ति

रक्षाबंधन एवं स्वतन्त्रता दिवस पर्वों की हार्दिक शुभकामनाएं

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

प्रिय शुक्ल जी आप को भी एवं हमारे सभी मित्रों को राखी और स्वतंत्रता दिवस पर हार्दिक शुभकामनायें -
शुक्ल भ्रमर५

Kailash C Sharma said...

बहुत भावपूर्ण,स्नेहमयी सुन्दर प्रस्तुति...रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं..

Manish Kr. Khedawat said...

rakhi mubarak ho , bhramar zi :)

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

आदरणीय कैलाश चन्द्र शर्मा जी आप को ये बहाना भाई के प्रेम की रचना भायी सुन मन खुश हुआ -आभार आप का -आप को भी ढेर सारी शुभकामनायें-भ्रमर ५

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

मनीष जी आप को भी ढेर सारी शुभकामनाएं इस पावन पर्व रक्षाबंधन पर -भ्रमर५

दिगम्बर नासवा said...

रक्षाबंधन के पर्व पर लिखी लाजवाब रचना के लिए बधाई ...

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

दिगंबर नासवा जी बहन भाई का ये पावन पर्व ढेर सारी यादें नयी कर जाता है ये रिश्ता है ही बड़ा प्यारा
आभार आप का समर्थन हेतु
भ्रमर ५