Saturday, May 28, 2011

कितना बदल गया रे गाँव


कितना बदल गया रे गाँव
अब वो मेरा गाँव नहीं है
ना तुलसी ना मंदिर अंगना
खुशियों की बौछार नहीं है
पीपल की वो छाँव नहीं है
गिद्ध बाज रहते थे जिस पर
तरुवर की पहचान नहीं है
कटे वृक्ष कुछ खेती कारण
बँटी है खेती नहीं निवारण
जल के बिन सूखा है सारा
कुआं व् सर वो प्यारा न्यारा
मोट – रहट की याद नहीं है
अब मोटर तो बिजली ना है
गाय बैल अब ना नंदी से
कार व् ट्रैक्टर द्वार खड़े हैं
एक अकेली चाची -ताई
बुढ़िया बूढ़े भार लिए हैं
नौजवान है भागे भागे
लुधिआना -पंजाब बसे हैं
नाते रिश्ते नहीं दीखते
मेले सा परिवार नहीं है
कुछ बच्चे हैं तेज यहाँ जो
ले ठेका -ठेके में जुटते
पञ्च -प्रधान से मिल के भाई
गली बनाते-पम्प लगाते -जेब भरे हैं
नेता संग कुछ तो घूमें
लहर चले जब वोटों की तो
एक “फसल” बस लोग काटते
“पेट” पकड़ मास इगारह घूम रहे
मेड काट -चकरोड काटते
वंजर कब्ज़ा रोज किये हैं
जिसकी लाठी भैंस है उसकी
कुछ वकील-साकार किये हैं
माँ की सुध -जब दर्द सताया
बेटा बड़ा -लौट घर आया
सौ साल की पड़ी निशानी
36695708
(फोटो साभार गूगल से )
कच्चे घर को ठोकर मारी
धूल में अरमा पुरखों के
पक्का घर फिर वहीँ बनाया
16nblalipurduar
चार दिनों परदेश गया
बच्चे उसके गाँव गाँव कर
पापा को जब मना लिए
कौवों की वे कांव कांव सुनने
लिए सपन कुछ गाँव में लौटे
क्या होता है भाई भाभी
चाचा ने फिर लाठी लेकर
पक्के घर से भगा दिया
होली के वे रंग नहीं थे
घर में पीड़ित लोग खड़े थे
शादी मुंडन भोज नहीं थे
पंगत में ना संग संग बैठे
कोंहड़ा पूड़ी दही को तरसे
ना ब्राह्मन के पूजा पाठ
तम्बू हलवाई भरमार
हॉट डाग चाउमिन देखो
बैल के जैसे मारे धक्के
मन चाहे जो ठूंस के भर लो
भर लो पेट मिला है मौका
उनतीस दिन का व्रत फिर रक्खा
गाँव की चौहद्दी डांका जो
डेव -हारिन माई को फिर
हमने किया प्रणाम
जूते चप्पल नहीं उतारे
बैठे गाड़ी- हाथ जोड़कर
बच्चों के संग संग –भाई- मेरे
रोती – दादी- उनकी -छोड़े
टाटा -बाय -बाय कह
चले शहर फिर दर्शन करने
जहाँ पे घी- रोटी है रक्खी
और आ गया “काल”
ये आँखों की देखी अपनी
हैं अपनी कडवी पहचान !!
कितना बदल गया रे गाँव
सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर ५
२८.५.२०११
जल पी बी




दे ऐसा आशीष मुझे माँ आँखों का तारा बन जाऊं

16 comments:

कविता रावत said...

gaon kee durdasha ka jeewant chitran padhkar man bhar aaya, sach gaon jitne sundar dekhte hain kayen gaon kee hakikat daynaiya hoti hai .....aabhar

Surendrashukla" Bhramar" said...

आदरणीय कविता जी-नमस्कार - सत्य कहा आप ने हम जिस तरह का सपना गाँव को ले कर देखते हैं जितना प्यार गाँव को देते हैं अब उतनी मिठास नहीं वहां भी लोग काफी बदले दिख रहे ये दुनिया का रंग गन्दी राजनीती का रंग उन पर भी हावी है -रचना उस स्थिति को उभार पाई सुन हर्ष हुआ हम आभरी हैं आप के
शुक्ल भ्रमर ५

गगन शर्मा, कुछ अलग सा said...

अभी चार-पांच दिन पहले पंजाब के एक ठेठ गांव में जाने का सुयोग मिला था, आज उस पर एक पोस्ट भी ड़ाली है, भौतिक बदलाव जरूर आया है जो समय की मांग भी है। पर अभी भी भाईचारा, अपनत्व और सहयोग की भावना पूरी तरह से खत्म नहीं हुई है। पर कब तक ऐसा रहेगा पता नहीं।
वैसे भी हम तो गांवों में जाना नहीं चाहते और यह अपेक्षा करते हैं कि वहां के लोग हमारे और हमारे बच्चों के लिए एक म्यूजियम या सैरगाह बन कर रहें तो यह तो ज्यादती ही होगी। यदि उन लोगों की इच्छा है शहरीपन को अपनाने की तो कौन रोक सकता है। यह बात अलग है कि अपनी सुविधाओं के साथ शहर ढेरों बुराईयां भी साथ ले चलता है

Amrita Tanmay said...

बिलकुल सही लिखा है आपने सब कुछ जैसे ख़त्म सा हो रहा है...कितना बदल गया रे गाँव

Surendrashukla" Bhramar" said...

आदरणीय गगन शर्मा जी बहुत सुन्दर आप के विचार और प्यारी प्रतिक्रिया -जैसा आप ने कहा की हम चाहते हैं की वे सैरगाह बन के रह जाएँ सच ऐसा नहीं होना चाहिए विकास करें -बदलें उसका स्वागत हो -लेकिन भाईचारा अपनापन न मिटे- गाँव प्राथमिक समूह के लिए हम मानते हैं -उसे इसीलिए तो याद करते हैं -जहाँ दूर दूर तक लोग जुड़े हैं -नाते रिश्ते प्यार सुन्दर संबोधन -
पंजाब और बिहार उ.प्र के गाँव काफी अलग भी हैं -
धन्यवाद आप का आभार
शुक्ल भ्रमर ५

Surendrashukla" Bhramar" said...

अमृता जी सच कहा आप ने काफी कुछ बदल चुका है अब के गाँव में विकास तक तो जायज है लेकिन शहरीकरण यहाँ भी रिश्ते नाते में हो प्यार में हो पैसे के लिए भाई भाई का दुश्मन हो जाये तो फिर तो समाज गया --
धन्यवाद आप का आभार
शुक्ल भ्रमर ५

संजय भास्कर said...

हर शब्‍द बहुत कुछ कहता हुआ, बेहतरीन अभिव्‍यक्ति के लिये बधाई के साथ शुभकामनायें ।

Maheshwarikaneri said...

सुन्दर अभिव्यक्ति् सुन्दर भाव…..….धन्यवाद

जाट देवता (संदीप पवाँर) said...

आप भी कमाल करते है, कही भी घूम आते हो,

सुशील बाकलीवाल said...

शायद बदलाव की बयार यही है.

Surendrashukla" Bhramar" said...

आदरणीय संजय भाष्कर जी धन्यवाद रचना के शब्द ,गाँव के बदलते हुए हालात को दर्शा पाए सुन हर्ष हुआ शुभकामनाओं के लिए हार्दिक आभार
भ्रमर ५

Surendrashukla" Bhramar" said...

आदरणीया माहेश्वरी कानेरी जी धन्यवाद रचना में गाँव के बदले परिदृश्य -हालात को बयां करते लगे आप को हार्दिक आभार
भ्रमर ५

Surendrashukla" Bhramar" said...

संदीप पंवार जी उर्फ़ नाग देवता जब आप घूम सकते हैं तो हम क्यों नहीं -जहाँ जहाँ आप चलेगे मेरा साया साथ होगा -रचना कैसी लगी -अब हिमाचल चलें ? आप को हार्दिक आभार
भ्रमर ५

Surendrashukla" Bhramar" said...

आदरणीय सुशील बाकलीवाल जी -नमस्कार -सच कहा आप ने बदलाव की बयार यही है विकास होना भी चाहिए गाँव का -लेकिन अगर प्यारे रिश्ते नाते प्राथमिक बने रह पायें तो आनंद आये और गाँव का अस्तित्व कुछ अलग रहे न -हार्दिक आभार आपका
भ्रमर ५

Surendrashukla" Bhramar" said...

nishamittal के द्वारा
May 28, 2011
सीधा सरल ग्रामीण जीवन ,गाँव के khet खलिहान,रिश्ते, पकवान,हरियाली को भी शहरी भागमभाग की जिन्दगी ने अपने दुष्प्रभावों से आक्रान्त कर लिया.सारा दृश्य जिसके लिए गाँव प्रसिद्द थे,आपने जीवंत कर दिया. आज की पीढी को उसका आनंद संभवतः कभी na मिल पायेगा .साधुवाद आपको.

surendra shukl Bhramar5 के द्वारा
May 29, 2011
आदरणीया निशा जी -सच कहा आप ने आप की प्यारी प्रतिक्रिया में पुराने गाँव की झलकी दिख गयी खेत खलिहान हरे भरे बाग़ बगिया सरोवर चिड़िया मोर सावन झूला-चौपाल-साथ साथ सब का जमा हो मसले का हल निकालना – और बहुत कुछ -अब शहरीकरण की छाप विकास तक तो गाँव में ठीक है लेकिन नाते रिश्ते बिगड़ रहे जो ठीक नहीं है -
धन्यवाद आप का
शुक्ल भ्रमर ५

Surendrashukla" Bhramar" said...

Aakash Tiwaari के द्वारा
May 29, 2011
श्री शुक्ल जी,
घर में पीड़ित लोग खड़े थे
शादी मुंडन भोज नहीं थे
पंगत में ना संग संग बैठे
कोंहड़ा पूड़ी दही को तरसे…
ये कुछ ऐसी चीजे थी जो गाँव की पहचान थे…सब मिटता जा रहा है..
बहुत ही उत्कृष्ट रचना…
*************************
एक अकेला
आकाश तिवारी
*************************

surendra shukl Bhramar5 के द्वारा
May 29, 2011
प्रिय आकाश तिवारी जी -अभिवादन , सच कहा आप ने काफी कुछ बदल गया है गाँव का दृश्य शहरों की छाप विकास पर पड़े तो ठीक है लेकिन हमारे प्राथमिक रिश्ते जब बदल जाएँ गाँव घर में भी तो मजा नहीं आता है -
धन्यवाद आप का इस की तह तक जाने के लिए
शुक्ल भ्रमर ५