Sunday, May 15, 2011

माई का जियरा गाइ कहावा


माई का जियरा गाइ कहावा
एक लाडला पुत्र जिसे की अशिक्षित माँ बाप दम भर के भविष्य में उन्नति की चरम सीमा पर पहुँचाने का ख्वाब संजोते हैं परिस्थितियों की विडंबना ऐसी की पिता के असमय स्वर्गवासी  होने के बाद माँ महगाई से मार खाकर पढ़ाने से जब  इंकार कर देती है तो बच्चे की वेदना फूट पड़ती है और सपने चकनाचूर- पालि के हमका तू मारू मोरी माई- उसके इस कथन से मन द्रवित हो जाता है
---काश कोई उसके अंतर्मन को पहचान

यह हमारी अवधी भाषा का पुट संजोये है -रचना थोड़ी लम्बी भी है -आशा है आप सब इसे समझने की कोशिश करेंगे – 
हमका बनाऊ की बिगाडू मोरी माई
तुहिन कहू बड़े भाग से पाये
सारी उमरिया का फल इहै आये  
नोनवा  अउ रोटिया खियाई  के जिआए
विधि अब एक आस पूरी कराये
हमारे ललन का अफीसर बनाये
बचपन से कहि कहि जियरा बढ़ाऊ
हमका बनाऊ की बिगाडू मोरी माई  

 सारे गौना में शिक्षा मोहाल बा
करज में डूबे सब खेतवउ बिकात बा
लाला अउ मुनीम खाई खाई के मोटात बा
घर अउ दुवरवा कुडूक होई जात बा  
भैया हमरा टाप कई के देखाए
माई बाप  का नमवा जगाये
अब कैसे ई सब भुलानू मोरी माई
हमका बनाऊ की बिगाडू मोरी माई  

सरकार का कोसू स्कूलवा खोलायेसि                                                                             गऊआँ के लड़िकन का नमवा लिखायेसि
 सारी पढ़इया मुफ्त करवायेसि
पंचये में पहिला नंबर लियाए
तोहरे अशवा का ऊँचा बढ़ाये 
तब काहे हमसे रिसानु मोरी माई 
 हमका बनाऊ की बिगाडू मोरी माई  


खरचउ हरदम हम सीमित चलाये
दिहू जौन हमका उहई हम पाए
चाय पान पिक्चर का कबहूँ न धाये
फीसउ आधी हम माफ़ कराये
अठयें तक हरदम वजीफा लियाए
तब काहे दुश्मन बनाऊ मोरी माई
हमका बनाऊ की बिगाडू मोरी माई  

बाबू के रहत तक ख़ुशी से पढाऊ
कबहूँ न कौनउ  कमवा कराऊ  
जातई सारी जिम्मेदरिया डाऊ
सांझ सवेरे तू हरवा जोताऊ 
तब  काहे जुलुमवा  ढाऊ मोरी माई
हमका बनाऊ की बिगाडू मोरी माई  

सारा काज कई के पढ़इआ   चलाये
सोचि भविषवा  हम फूला न समाये
कबहूँ ना सोचे की ई दिन आये
सारी कमइया वृथा होई जाये
महल सपनवा का ऐसें ढही जाये
नंवई से पढ़इआ   छोड़ाऊ मोरी माई
हम का बनाऊ की बिगाडू मोरी माई ---

सारे अरमानवा पे पानी फिराऊ
चढ़ाई सरगवा पे हमका गिराऊ
गंउआ  से हम का आवारा कहाऊ
खुद अपनेऊ पे सब का हंसाऊ
उठे ला करेजवा में हिलोर मोरी माई
हम का बनाऊ की बिगाडू मोरी माई ---

एसी  अच्छा न कबहूँ पढ़उतू
गाइ गुन गान न छतिया फुलउतू
 चाहे हम से तू हरव्इ जोतउतू
आगे क सपना न हमका देखउतू
बिना विचारे जग का हंसाऊ
जल बिनु मीन हमइ तडफाऊ   
पालि के हमका तू मारू मोरी माई

हम का बनाऊ की बिगाडू मोरी माई ---

फिर पहिले का वचन दोहरावा
तम का भगाइ आलोक जगावा
माइ का जियरा गाइ कहावा
कहें भ्रमर अब जियरा बढ़ावा
मंहगाई का न डरवा देखावा 
राखहु मोर दुलार हो माई
हम का  ल्या फिर से उबार मोरी माई
हम का बनाऊ की बिगाडू मोरी माई ---


दे ऐसा आशीष मुझे माँ आँखों का तारा बन जाऊं

7 comments:

: केवल राम : said...

बहुत सार्थक शब्दों में रची गयी रचना .....आपका आभार

Surendrashukla" Bhramar" said...

केवल राम जी हार्दिक अभिनंदन आप का यहाँ पर -प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद
आप को यह भाषा समझ में आई और प्रयास सार्थक लगा -सुन बहुत अच्छा लगा -ये एक बालक की वेदना जो पढ़ना चाहता है पर आगे पढ़ नहीं पा रहा है काश हमारी सरकार और लोग इस तरह की लोगों को सहायता पहुंचाएं
शुक्ल भ्रमर ५

Surendrashukla" Bhramar" said...

प्रिय आशुतोष जी अभिनन्दन है आप का भमर का दर्द और दर्पण में -
आप के प्रोत्साहन और शुभेच्छा के लिए आभारी हैं हम
शुक्ल भ्रमर ५

Dr Kiran Mishra said...

dil ko chhune vali rachna padne ke liye thanks bahut sundar rachna

Surendrashukla" Bhramar" said...

डॉ किरण मिश्र जी अभिवादन है आप का यहाँ पर -रचना ये एक विद्यार्थी की वेदना माँ को आगे की शिक्षा दिलाने की -आप के ह्रदय को छू गयी -हम आभारी हैं आप के
आओ सब मिल इस तरह के वाक्यात में सहृदयता वर्तें
शुक्ल भ्रमर ५

JHAROKHA said...

bhamar ji
aapki rachna ki tarrif sachche dil se karti hun .waqai aapne apne man ke dard ko bahut hi sahjta ke saath bayan kiya hai.
par maa ki bhi to koi na koi majburi hoti hai .har maa apne bachche ke liye bade bade khvab hi dekhti par kismat ke aage kiska vash chala hai.
bahut hi bhav -bhiniiaur man ko choo lene wali prastuti
bahut abhut badhai
poonam

Surendrashukla" Bhramar" said...

पूनम जी नमस्कार -बाल मन की व्यथा आप के मन को छू गयी और ये रचना आप को इतनी प्यारी लगी आप ने इतना समय दिया इस रचना पर देख बहुत ही हर्ष हुआ
आप ने सच कहा की कोई माँ नहीं चाहती की उसका लाल आगे की पढाई न करे उसका भविष्य न बने -उसकी मजबूरियां तो होती ही हैं -इसी के लिए तो ये आह्वान है की लोग आगे आयें और खुद तथा सरकार से योगदान के लिए गुहार लगाएं
आभार आप का