Thursday, February 17, 2011

मेरी बिटिया कितनी प्यारी -A COLLECTION OF HINDI POEM BY BHRAMAR

 मेरी  बिटिया  कितनी  प्यारी
 
मेरी  बिटिया  कितनी  प्यारी ,
रंग  बिरंगे  फूल  लगाये ,
उडती  फिरती  बगिया  क्यारी ,
 जब  उठती  कोयल  सी  बोले ,
मात  पिता  के  पैर  को  छुए ,
लगता  सूरज  उग  आया ,
ज्योति  - जीवन  दुनिया  लाया ,
मुस्काती  तितली  बिजली  सी ,
सब  को  नाच  नचाती  फिरती ,
माँ  की  चपला  प्यारी  फिरकी ,
रामा  की  बोलो  तुम  सीता ,
या  कान्हा  की  गीता  ,
लक्ष्मी  का  अवतार है  बेटी ,
घर  को  रोज  सजाये ,
दर्द  भरा  हो  दिल   में  कुछ  भी ,
उसको  दूर  भगाए ,
उसके  गम  के  आगे ,
भाई  सब  कुछ  फीका  पड़  जाये ,
तभी  तो  डोली  उठते  उसकी ,
सब  रोते  रह  जाएँ ,
अपने  दिल   के  टुकड़े  को  हम ..
इतने  'दर्द'  सहे  भी  देते ,
क्योंकि    रोशन  सारा  जग  होना  है ,
मेरा  घर  .. बस  एक  कोना  है ,
जा  बेटी  जगमग  तू  कर  दे ,
घर  आँगन  हर  कोना ,
कहीं  बना  दे  सीता  प्यारी ,
कहीं  राम  भरत  व्  कान्हा ,
जग  जननी  तू  जीवन  ज्योति ,
जितने  नामकरण  सब  कम  हैं ,
सभी  कर्म  या  सभी  धरम  हों ,
सभी  मूल  या  सभी  मंत्र  हों ,
“माँ ’ बिन  सभी  अधूरा ,

तेरे  रूप  अनेक  हैं  बेटी ,
गायत्री , काली  या  दुर्गा ,
जब  जो  चाहे  धर  ले ,
जग  का  है  कल्याण  ही   होना ,
मन  इतना  बस  निश्चित  कर  ले .

मेरी  लाख  दुआएं   बेटी  तू  
ऐसा   कर  जाये ………….
याद  में  तेरी  मोती  छलके
हर  अँखियाँ  भर  आयें .

सुरेंद्रशुक्ला  “भ्रमर ” on  daughters   day…..17.1.11

No comments: